Advertisement
Mother's Day

मेरी माँ के बारे में कुछ बातें

About Mother in Hindi
Written by Himanshu Grewal

शीर्षक: About Mother in Hindi

माँ के बिना जीवन सम्भव नहीं है, माँ जननी है असहनीय शारीरिक कष्ट के उपरान्त वे शिशु को जन्म देती हैं। अपने स्वार्थ को त्याग कर, अपने कष्टों को भूलकर वह बच्चे का पालन-पोषण करती हैं। अपनी संतान की खुशी के लिए माँ अनेक कष्टों को भी सहज स्वीकार कर लेती है। माँ के स्नेह और त्याग का पृथ्वी पर दूसरा कोई उदाहरण मिलना सम्भव नहीं हैं। हमारे शास्त्रों में माँ को देवताओं समान पूजनीय बताया गया है। माँ के बारे में जितना कहे उतना कम है, माँ सबसे अच्छी है, सबसे प्यारी है

माँ के लिए » माँ के प्रेम में 4 बेहतरीन हिंदी कविता

Mother’s Day Essay in Hindi

Best Mother's Day Essay in Hindi Font

About Mother in Hindi

मेरी माँ बहुत प्यारी है। वे रोज सुबह घर में सबसे पहले उठ जाती हैं। घर के सब लोगों का ध्यान मेरी माँ रखती हैं। वे दादा-दादी का पूरा ध्यान रखती है। पापा, मेरी और मेरी छोटी बहन की हर एक छोटी बड़ी बातों की परवाह भी मेरी माँ करती है। दादी कहती है कि मेरी माँ घर की लक्ष्मी हैं। मैं भी माँ को भगवान के समान मानता हूँ और उनकी हर बात मानता हूँ।

मेरी माँ नौकरी भी करती है, घर और ऑफिस दोनों की जिम्मेदारी वे बहुत ही अच्छे से निभाती है, उनके सरल और सुलझे व्यवहार की तारीफ उनके ऑफिस के सारे लोग करते हैं। मेरी माँ गरीबों और बीमारों की भी हर संभव मदद करती है, मेरी माँ मेरी सबसे अच्छी दोस्त हैं। मैं जब कोई गलती करता हूँ तब माँ मुझे डांटती नहीं है बल्कि प्यार से मुझे समझाती है, जब मैं दुखी होता हूँ तब मेरी माँ ही मेरे मुरझाए चेहरे पर मुस्कुराहट लेकर आती है, उनके प्यार और ममतामयी स्पर्श को पाकर मैं अपने सारे दुख भूल जाता हूँ।

मेरी माँ ममता की देवी समान है। वे मुझे और मेरी बहन को हमेशा अच्छी-अच्छी बातें बताती है। मेरी माँ आदर्श है वे मुझे सच के रास्ते पर चलने की सीख देती है, समय का महत्व बताती है, संस्कार सिखाती हैं। कहते है कि माँ ईश्वर के द्वारा हमें दिया गया एक वरदान है जिसकी आंचल की छांव में हम अपने आप को सुरक्षित महसूस करते है और अपने सारे गम भूल जाते हैं। मैं अपनी माँ से बहुत प्यार करता हूँ और भगवन को धन्यवाद देता हूँ कि उन्होंने मुझे दुनिया की सबसे अच्छी माँ दी।

माँ के लिए » माँ के ऊपर प्यार भरा और रुला देने वाला भाषण

grammarly

My Mother Essay in Hindi

Best Hindi Essay on Maa For Class 1 to 12

Essay on my Mother in Hindi for Class 9

Essay on my Mother in Hindi

माँ हमारे लिए सबसे प्यार और देखभाल करने वाली महिलाओं में से एक है। इस दुनिया में मेरी माँ सबसे अच्छी दोस्त है। वे मुझे बेहद प्रेम करती है, वे मेरी सारी गलती पर मुझे कभी डाटती भी नहीं बल्कि मुझे प्यार से समझाती है। कोई भी इतना अच्छा नहीं हो सकता जितना की मेरी प्यारी माँ है।

किसी ने सही कहा है कि भगवान सब जगह नहीं हो सकते इसलिए उन्होंने माँ को बनाया है।

कोई भी दयालुता का कर्ज नहीं चुका सकता। माँ मेहनती, दयालु, देखभाल व प्यार करने वाली है। माँ के मन में हमारे प्रति उनके प्यार की कोई सीमा नहीं है और परिवार में हर कोई उसकी प्रशंसा करता है। मेरी माँ हम सबसे पहले उठती है और हम सब के बाद ही सोती है, उनका प्यार व देखभाल मेरे लिए प्रेरणा का काम करती है। माँ हमारे लिए खाना बनाती है, हमारे कपड़े धोती है और हमारी सभी आवश्यकताओं व आराम का भी ध्यान रखती है। मेरी माँ काम करती है तब भी वह अपने चेहरे में दिखने नहीं देती है की वो थकी हुई है।

अगर मैं बीमार भी हो जाता हूँ तो मेरी माँ मेरे ठीक हो जाने का हर संभव प्रयास करती है क्योंकि एक माँ अपने बच्चे को कभी भी बीमार नहीं देख सकती है। वह अपने बच्चे को खुश और स्वस्थ ही देखना चाहती है, और यदि जब तक हम ठीक नहीं हो जाते है तब तक वह हमारी सेवा करती रहती है क्योंकि उन्हें हमारी सेवा करना अच्छा लगता है और हम सभी उनकी सेवा और त्याग को कभी भूल नहीं सकते है।

अगर मेरी माँ बीमार पड़ जाती है तब पूरा घर अस्त-व्यस्त हो जाता है और जिसकी वजह से हम खुद बीमारों जैसे हो जाते है और हम सभी उसके अच्छे हो जाने के लिए प्रार्थना करते है। वह घर के सारे काम स्वयं करती है, घर का भोजन बनाना और भोजन को बनाने के बाद वो सब को प्यार से खिलाती भी है और मैं अपनी माँ की घर का थोड़ा कार्य करवाने में उनकी सहायता भी करता हूँ। इतना ही नहीं मेरी माँ शाम को हमारे साथ खेलती भी है और रामायण, महाभारत आदि धार्मिक ग्रंथों और महापुरुषों की कहानियाँ भी सुनाती है और हमारे घर का सारा खर्चा भी अच्छे तरीके से चलाती है। मेरी माँ वाकई सर्वगुण संपन्न है।

माँ हमारी पढ़ाई का भी पूरा ध्यान रखती है और विद्यालय में जाकर हमारी अध्यापिका से भी मिलती है और हमारी पढ़ाई की प्रगति के बारे में जानकारी लेती रहती है। मेरी माँ को भजन गाना उन्हें बेहद पसंद है। वह प्रतिदिन ईश्वर की पूजा करती है और तुलसी को जल चढ़ाती है और वह हमेशा प्रसन्न रहती है और हमारे स्वास्थ्य और शरीर की देखभाल एक नर्स की तरह करती है क्योंकि मेरी माँ मुझसे बहुत प्यार करती है।

माँ के लिए » माँ शायरी और माँ स्टेटस

मेरी आदर्श माँ पर निबंध

Essay on Mothers Day in Hindi

Meri Maa Nibandh

Meri Maa Essay in Hindi

पूरे विश्व में माँ के सच्चे प्यार को और उसके द्वारा उसके बच्चे को दी गई परवरिश को किसी भी चीज से ना ही तौला जा सकता है और ना ही मापा जा सकता है। हम सभी की जिंदगी में महिलाएं अलग – अलग रूप में अपना किरदार निभाती है जैसे – बहन, बेटी, पत्नी, भाभी, दादी, नानी, चाची, मासी इत्यादि लेकिन एकमात्र माँ ही ऐसी महिला है जो बिना किसी आशा, उम्मीद के अपने बच्चे को अनमोल प्यार देती है।

एक माँ अपने बच्चे की परवरिश में कोई कमी नहीं आने देती क्योंकि माँ के लिये उसका बच्चा ही सब कुछ होता है। माँ अपने बच्चे से जुड़ी खुशियाँ उसी दिन से सजोने लगती है जिस दिन से उसे यह पता चलता है कि वह माँ बनने वाली है।

दोस्तों, यह तो आपने महसूस किया होगा कि जब कभी हम हारा हुआ या टूटा हुआ महसूस करते है तो वो माँ ही होती है जो हमें जीवन में उस कठिन कार्य को करने के लिये हमें प्रेरित करती है और समय आने पर वो हमें गलत और सही के बीच का फर्क करना भी सिखाती है। किसी ने सही ही कहां है सच्चे प्यार का दूसरा रूप केवल एक माँ ही हो सकती है, क्योंकि माँ के साथ हमारा रिश्ता उसी दिन से जुड़ जाता है जब हम उसकी कोख में आते हैं।

शिशु के जन्म लेने के बाद जब एक माँ अपने बच्चे को पहली बार गोद में लेती है तो उसकी आंखों में खुशी के आँसू होते हैं क्योंकि जिसको उसने 9 महीने तक अपने गर्व में संभाल के रखा होता है उसे वो पहली बार देख पाती है और उस दिन के बाद से फिर वो पूरे जीवन भर अपने बच्चे से निस्वार्थ प्रेम करती है। जिस प्रकार एक माँ के लिए उसका बच्चा अनमोल है ठीक उसी तरह इस दुनिया में माँ से अनमोल कुछ भी नहीं होता क्योंकि वो भगवान के द्वारा हमें एक आशीर्वाद मिला होता है इसलिए मैं तो बोलता हूँ कि हमें ईश्वर का आभारी होना चाहिये जिसने हमें सच्चे प्यार, परवरिश और बलिदान का अवतार हमारी ज़िंदगी में दिया है।

  • वो माँ ही होती है जो स्कूल की शुरुआत होने से पहले ही घर में हमें बहुत कुछ सिखाती है, हमारे जीवन की सबसे पहली और प्यारी शिक्षक हमारी प्यारी माँ ही होती है।
  • वो हमें जीवन को सही तरीके से देखना और परखना सिखाती है ताकि हमारा व्यवहार एक सजन व्यक्ति के भांति बन सके।
  • वो माँ ही होती है जो आपके जीवन में अंधकार को दूर करके रोशनी भरती है।
  • रोज रात को सोते समय वो हमें कहानियाँ सुनाती है, हमेशा हमारे स्वास्थ्य, शिक्षा, भविष्य और अजनबियों से हमारी सुरक्षा को लेकर हमारा ध्यान रखती है।
  • इसके साथ वो हमे जीवन में खुशियाँ बाटना भी सिखाती है।
  • माँ हमेशा हमारा पक्ष लेती है और भगवान से हमारे स्वास्थ्य और अच्छे भविष्य के लिये पूरे जीवन भर प्रार्थना करती है इसके बावजूद कि हम कई बार उनको दुखी भी कर देते है।

लेकिन मेरे प्यारे दोस्तों मैं आपको एक बात बताना चाहता हूँ कि माँ के मुस्कुराते हुए चेहरे के पीछे एक दर्द होता है जिसे हमें समझने की जरूरत है और ध्यान रखने की सख्त जरूरत है। अंत में मेरी ओर से आप सभी माताओं को Happy Mother’s Day.

About Mother in Hindi Essay

Mother's Day Essay in Hindi For School Students

Maa Essay in Hindi

Essay on Mother in Hindi

माँ एक ऐसा शब्द है जिसको शब्दों में बयान करना बहुत ही कठिन है। जब हम पहली बार बोले थे तब हमारे मुंह से जो पहला शब्द निकलता है वो माँ ही होता है, और जब हम छोटे होते है तो माँ ही है जो हमें चलना सिखाती है और अच्छे और बुरे का फर्क बताती है। भगवान हर जगह होता है और मुझे मेरा भगवान मेरी माँ में दिखता है और माँ हमारी परवरिश ईश्वर की तरह करती है, यदि धरती पर कोई भगवान को देखना चाहता है तो वो अपनी माँ को देखे माँ भगवान का दूसरा रूप होती है।

माँ हमें बहुत प्यार करती है। वह हमारे लिए सुबह-सुबह उठ जाती है और वह सबसे पहले सब के लिए खाना बनाती है और फिर वह हमें स्कूल जाने के लिए तैयार करती है और इस दुनिया में हम माँ के प्यार को किसी भी वस्तु से नहीं तोल सकते है। कभी कभी हमारी माँ हमें किसी कार्य को करने से यदि रोक भी देती है तो हमें यह नहीं सोचना चाहिए की हमारी माँ हमें कोई कार्य करने से रोक रही है तो उसमें हमारी ही भलाई होगी। एक माँ ही तो है जो हमें अच्छे और बुरे में फर्क बताती है।

माँ के लिए » Maa Images HD Wallpaper Download


मां का प्यार क्या है?

दुनिया में कोई चीज अगर ऐसी है जिसे समझ पाना नामुमकिन है, तो वह मां का प्यार ही है। इसे ना तो आप किसी मीटर से नाप सकते है ना ही इसकी गहराई का अंदाजा लगा सकते हैं। मां के प्यार की गिनती अनमोल में होती है जिसका कोई मोल नहीं होता है। एक मां अपने बच्चे की अच्छाइयों को भी अपना लेती है और उसकी बुराइयों को भी अपना लेती है और अपने बच्चे को लाड़ दुलार करती हैं।

मां के लिए उसका बेटा या फिर बेटी हमेशा प्यारे ही होते है फिर चाहे वह जिंदगी में असफल हो या फिर सफल हो। हालांकि हर माता यह चाहती है कि उनकी संतान जिंदगी में एक अच्छा व्यक्ति बने और जिंदगी में सफलता की ऊंचाइयों को छुए। मां किसी भी सिचुएशन में अपने बच्चों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर के खड़ी रहती है। जिस प्रकार भगवान दुष्ट राक्षसों से ऋषि मुनियों की रक्षा करते हैं, उसी प्रकार माता भी बुरे लोगों से अपने संतान की रक्षा करती है।

संतान पैदा होने के बाद आदमी अपनी जिंदगी में सफलता की जिस किसी भी ऊंचाइयों को प्राप्त करता है, उसके पीछे कहीं ना कहीं उसकी मां का प्यार ही होता है और बता दें कि माता-पिता से ज्यादा ज्यादा प्यार आपको कोई भी नहीं कर सकता। उनके ना रहने पर सबसे ज्यादा उनकी कमी का एहसास होता है।

कुछ लोग तो ऐसे होते हैं, जो माता-पिता के जिंदा रहने पर उनकी कदर नहीं करते है और जब उनके माता पिता की मौत हो जाती है तब वह दिन भर उनकी याद में खोए रहते हैं। इसीलिए कहा जाता है कि जो चीज सामने होती है उसकी कदर कर लेनी चाहिए। दुनिया में दूसरे प्यार तो मिल सकता है परंतु माता-पिता का प्यार दुनिया में दोबारा कभी नहीं मिल सकता। दुनिया में सबसे पवित्र प्यार अगर किसी के बीच है तो वह संतान और माता के बीच में ही होता है। ‌इसमें ना तो किसी भी प्रकार का स्वार्थ होता है ना ही किसी भी प्रकार की शर्त होती है, ना ही कोई डर या फिर लालच होती है। इस संबंध में सिर्फ प्यार ही प्यार होता है।

मां अपनी संतान के लिए सब कुछ करने के लिए तैयार रहती है और इसीलिए कहा जाता है कि मां के प्यार की बराबरी दूसरा कोई प्यार नहीं कर सकता है। मां एक तपस्वी की तरह जिंदगी भर अपने बच्चे की हंसी खुशी के लिए प्रयासरत रहती है। जिंदगी में हम चाहे सफलता की कितनी ऊंचाई‌ को टच कर ले। जब हमें सच में किसी व्यक्ति के साथ की आवश्यकता होती है तो वह व्यक्ति हमारी मां ही होती है। मां के चरणों में हमें संसार का सारा सुख मिलता है। इसलिए तो स्वयं गणेश भगवान ने अपने माता-पिता की परिक्रमा की थी। इस प्रकार जब भगवान माता का मोल समझते है तो हम इंसान की बिसात ही क्या।


मां का त्याग क्या है?

आज हर इंसान अपने चेहरे की खूबसूरती को सबसे ज्यादा महत्व देता है परंतु एक माँ ही ऐसी व्यक्ति होती है, जो अपने चेहरे की सुंदरता को त्याग देती है, वह भी सिर्फ अपनी संतान के लिए, क्योंकि उसे पता होता है कि जब संतान पेट में आती है तो उसे तरह-तरह की समस्याएं होती है परंतु इसके बावजूद वह दुनिया में सबसे बड़ी खुशी मां बनना ही मानती है।

एक मां का त्याग पेट में बच्चा आने के बाद से ही चालू हो जाता है। उसे रोजाना उल्टियां होती है, थकान महसूस होती है, कमजोरी होती है परंतु वह इन सभी बातों को नजरअंदाज करती है सिर्फ अपने बच्चे के लिए। यहां तक कि बच्चा पैदा होने पर भी उसे काफी कष्ट होता है परंतु जैसे ही वह अपने बच्चे की पहली किलकारी सुनती है वैसे ही उसके सारे कष्ट का अंत हो जाता है। उसके सामने उसने जो परेशानी झेली है, वह नहीं आती है बल्कि उसे अपने बच्चे का चेहरा याद आता है और उसके मन में अपने बच्चे को ले करके नई तरंगें पैदा होती हैं।

मां अपने बच्चे के लिए पति से भी झगड़ा कर लेती है और संसार की तमाम प्रकार की शक्तियों से वह अपने बच्चे के लिए लड़ जाती है। अपने बच्चे को बचाने के लिए मां भगवान को भी चुनौती दे सकती है। इसलिए मां का सदा आदर करना चाहिए।

अपनी मां को कैसे खुश रखें?

अपनी मां को खुश करने के लिए सेवा से बड़ा कोई काम नहीं हो सकता है। चाहे वह बीमार हो या फिर ना हो, आपको रोजाना या फिर समय मिलने पर कभी कबार उनके सर में हल्की मालिश कर देनी चाहिए अथवा उनके हाथ या फिर पैर दबा देने चाहिए। इसके अलावा जब कभी भी वह बीमार पड़े तो आपको उन्हें तुरंत डॉक्टर के पास ले करके जाना चाहिए और उनक उचित इलाज करवाना चाहिए। इसके अलावा कभी भी आपको अपनी मां को दुख नहीं पहुंचाना चाहिए और आपको अपनी जिंदगी में सफलता हासिल करनी चाहिए। यह सब काम अगर आप करते है, तो आपकी मां अवश्य खुश होंगी। कुल मिलाकर आप खुश रहेंगे तो आपकी मां भी खुश रहेगी।

माँ की ममता पर लेख

‘भगवान हर जगह मौजूद नहीं हो सकते इसलिए उन्होंने माँ को बनाया’

दोस्तों ये कहावत तो आपने सुनी ही होगी, माँ की ममता अतुल्य होती है। इस दुनिया में कोई ऐसी चीज नहीं है जो माँ की ममता का कर्ज उतार सके, लेकिन कई बार लोग इस बात को समझ नहीं पाते तथा अपने बुजुर्ग माता पिता को वृद्धाश्रम में या सड़कों पर छोड़ देते है। वे इस तथ्य को भूल जाते है की उनकी माँ ने उन्हें 9 महीने तक अपनी कोख में पाला है। माँ के साथ इतना सब होने के बावजूद माँ की ममता अपने बच्चों के लिए एक रत्ती भी कम नहीं होती है, माँ की ममता अमूल्य होती है, इसका कोई मूल्य नहीं होता है।


माँ की ममता पर कहानी

एक समय कि बात है एक गांव में चार दोस्त रहते थे, उनका नाम मोहन, श्याम, घनश्याम और राजू था। एक बार उन्होंने पिकनिक में जाने की योजना बनाई, राजू ने कहाँ ठीक है मैं कल सुबह अपनी कार ले आऊँगा तुम सब लोग तैयार रहना। सभी दोस्तों ने उसकी बात का समर्थन किया और उन्होंने अगले दिन पिकनिक पर जाने की योजना बनाई। अगले दिन वे सुबह सुबह पिकनिक के लिए निकल पड़े, जाते जाते वो गाँव से बहुत दूर चलें गए। जाते जाते उन्होंने एक अच्छा सा मैदान देखा, उन्होंने उस मैदान में रूककर पिकनिक मनाने की ठानी वे कार से उतरे और मैदान की ओर पहुंचे।

मैदान में पहुँच कर उन्होंने खाने पीने का सामान निकाला और कुछ पुरानी बातें याद कर भोजन का आनंद लेने लगे तभी मौसम खराब होने लगा। मौसम खराब होता देख उन्होंने सारा सामान गाड़ी में डाला, तभी जोरों से बारिश होने लगी और वह गाँव की ओर चल पड़े। वो कुछ दूर पहुंचे ही थे की एक महिला उनकी गाड़ी के आगे आई और गाड़ी रोकने लगी। मोहन और घनश्याम ने गाड़ी रोकने के लिए मना किया लेकिन उस महिला की हालत देखने के बाद राजू ने गाड़ी रोकना उचित समझा। राजू ने उससे पूछा क्या हुआ तो उस महिला ने जवाब दिया मेरे बच्चे की जान खतरे में है, पास में ही मेरी गाड़ी का एक्सीडेंट हुआ है।

ये कहते हुए वो गाड़ी में बैठी और उन्हें गाड़ी के पास ले गई वो गाड़ी से बाहर निकले तो देखा वहाँ गाड़ी पलटी हुई थी और एक बच्चे के चीखने की आवाज आ रही थी और उसके बगल में उस महिला का शरीर लहूलुहान स्थिति में था। उन्होंने मुड़ के अपनी गाड़ी की तरफ देखा तो वो महिला गायब हो गई थी, वो उन दोनों को अस्पताल ले गए और डॉक्टर से उनका उपचार कराया। डॉक्टर ने कहां बच्चा सुरक्षित है पर उसकी माँ की मौत एक घंटा पहले ही हो गई है, अब वे चारों समझ गए थे की वो महिला एक माँ थी जो अपनी जान की परवाह न करते हुए अपने बच्चे की जान बचाने के लिए उस रूप में आई थी।


मेरी माँ पर निबंध 10 लाइन

  1. मेरे ह्रदय में माँ का स्थान संपूर्ण संसार में सबसे ऊंचा है।
  2. मेरी माँ मुझसे बहुत अधिक प्रेम करती है।
  3. माँ के बिना जीवन नीरस है।
  4. माँ के बिना जीवन की कल्पना करना भी मुश्किल है।
  5. मेरी माँ मेरी सबसे अच्छी मित्र है।
  6. जब भी मैं किसी कठिन परिस्थिति में होता हूँ तो मेरी माँ हर प्रयत्न करके मुझे उस कठिन परिस्थिति से बाहर निकालने का प्रयत्न करती है। परिस्थितियां कितनी भी खराब क्यों न हो मेरी माँ हमेशा मेरा साथ देती है।
  7. मेरी माँ मेरे जीवन की सबसे अच्छी मार्गदर्शक है।
  8. मेरी माता ही मेरी प्रथम शिक्षक है।
  9. मेरी माँ के द्वारा ही मेरे अंदर अच्छे बुरे की समझ विकसित हुई।
  10. मैं अपनी माँ से बहुत प्रेम करता है।

कविता माँ की ममता पर शायरी

अब हम आपके साथ इस लेख में माँ पर आधारित एक छोटी सी कविता और माँ की ममता पर लिखी गई कुछ अनमोल माँ शायरी साझा करने जा रहे है। प्रस्तुत है इस आधुनिक दौर में कड़वे सत्य को बयान करती कवि की एक लघु कविता।

Maa Poem in Hindi
मेरी आंखों का तारा ही, मुझे आंखें दिखाता है
जिसे हर एक खुशी दे दी, वो हर गम से मिलाता है।
Maa Shayari in Hindi
जुबा से कुछ कहूं कैसे कहूं किससे कहूं माँ हूं
सिखाया बोलना जिसको, वो चुप रहना सिखाता है।
Maa Quotes in Hindi
सुला कर सोती थी जिसको वह अब सभर जगाता है
सुनाई लोरिया जिसको, वो अब ताने सुनाता है।
Maa Wishes in Hindi
सिखाने में क्या कमी रही मैं यह सोचूं
जिसे गिनती सिखाई गलतियां मेरी गिनाता है।
Maa Status in Hindi
है गरीब मेरी माँ फिर भी मेरा ख्याल रखती है,
मेरे लिए रोटी और अपने लिए पतीले की खुरचन रखती है।
Maa SMS in Hindi
बलाएं आकर भी मेरी चौखट से लौट जाती हैं,
मेरी माँ की दुआएं भी कितना असर रखती हैं।
Maa Messages in Hindi
वो उजला हो के मैला हो या मँहगा हो के सस्ता हो,
ये माँ का सर है इस पे हर दुपट्टा मुस्कुराता है।
Maa Images in Hindi
बहुत बेचैन हो जाता है जब कभी दिल मेरा,
मैं अपने बटुए में रखी माँ की तस्वीर को देख लेता हूँ।

मैं उम्मीद करता हूँ कि आपको मेरी माँ पर निबंध का यह लेख अत्यंत पसंद आया होगा। आपको Short Paragraph on my Mother का यह लेख कैसा लगा हमको कमेंट करके जरूर बताये और माँ के प्रति अपने विचार हमारे साथ शेयर जरूर करें। अगर आपको माँ का यह लेख पसंद आया हो तो इस लेख को आप सोशल मीडिया जैसे की फेसबुक, ट्विटर, और व्हाट्सएप्प पर शेयर जरूर करें।

– About Mother in Hindi

About the author

Himanshu Grewal

10Lines.co एक हिंदी ब्लॉग है, यहां आपको 10 Lines से संबंधित जानकारी मिलेगी। इसके अलावा निबंध (Essay), भाषण (Speech), कविता (Poem) भी पढ़ने को मिलेगा।

2 Comments

  • रुको तो चाँद जैसी है चले तो हवाओं से जैसी है भाई वो माँ ही है तो धुप में छाँव जैसी हैं!

Leave a Comment