Advertisement
Advertisement

हैप्पी न्यू ईयर 2022 पर निबंध व भाषण हिंदी में

Advertisement

नमस्ते, 10Lines.co में आज हम नव वर्ष पर निबंध अर्थात, “in English, Happy New Year Essay in Hindi” के विषय के ऊपर चर्चा करेंगे जिससे आपको भारतीय नव वर्ष कब आता है, उड़ीसा में नव वर्ष किस नाम से जाना जाता है?, हिंदुओं का नया साल कब होता है?, हिंदू नव वर्ष क्यों मनाया जाता है?, भारतीय नववर्ष के दिन क्या खाया जाता है?, हैप्पी न्यू ईयर क्यों बोला जाता है? इत्यादि की जानकारी प्राप्त कर सके।

Grammarly Writing Support

Happy New Year Essay in Hind

दोस्तों, क्या आप जानते है कि यु तो पूरे विश्व में हैप्पी न्यू ईयर मनाया जाता है लेकिन समय हर जगह का अलग अलग है। खास कर हमारे देश भारत में नये साल की शुरुआत हर जगह अलग-अलग समय पर होता है। लेकिन दोस्तों, अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार 1 जनवरी से नए साल की शुरूआत मानी जाती है। क्योंकि 31 दिसंबर को एक वर्ष का अंत होता है और 1 जनवरी से नए अंग्रेजी कैलेंडर वर्ष की शुरूआत हो जाती है। इसलिए इस दिन को पूरी दुनिया अपने-अपने तरीके से नया साल शुरू होने के उपलक्ष्य में पर्व की तरह पूरे उल्लास के साथ मनाती है।

Naya Saal 2022 Par Nibandh

एक नया वर्ष एक नई शुरूआत को दर्शाता है और हमेशा जिंदगी में आगे बढ़ने की सीख देता है। पुराने साल में हमने जो भी किया, सीखा, सफल हुए या असफल हुए उससे सीख लेकर एक नई उम्मीद के साथ आगे बढ़ना चाहिए। जिस प्रकार हम पुराने साल के समाप्त होने पर दुखी नहीं होते बल्‍कि नए साल का स्वागत बड़े उत्साह और खुशी के साथ करते हैं, ठीक उसी तरह जीवन में भी बीते हुए समय को लेकर हमें कभी भी दुखी नहीं होना चाहि। जो बीत गया उसके बारे में सोचने से हमें तकलीफ ही मिलती है तो ऐसा ना करके आने वाले अवसरों का स्वागत करें और उनके जरिए जीवन को खुशहाल और बेहतर बनाने की कोशिश करें।

grammarly

Essay on Happy New Year in Hindi

दोस्तों, क्या आप जानते है कि भारत में हर चीज हिंदी कैलेंडर के हिसाब से निश्चित की जाती है? और हिंदी कैलेंडर के हिसाब से भारत में नया साल कभी भी 1 जनवरी को नहीं आता है। भारत के कुछ हिस्से में नववर्ष का आगाज गुड़ी पड़वा से होता है, वहीं कुछ हिस्से में होली खत्म होने के बाद नया साल शुरू होता हैं।

  • भारत के पड़ोसी देश चाइना में फरवरी के माह में नववर्ष मनाते हैं। लेकिन अब भारतवासी भी इंग्लिश कैलेंडर के हिसाब से 1 जनवरी को ही नया साल धूम-धाम से मनाते हैं।

चलिए जानते है भारतवासी 1 जनवरी को न्यू इयर क्यों मनाते हैं-


1 जनवरी को हिंदू नव वर्ष क्यों मनाया जाता है?

  • 1 जनवरी को नया साल मनाना सभी धर्मों में एकता कायम करने में भी महत्वपूर्ण योगदान देता है, क्योंकि इसे सभी मिलकर एक साथ मनाते हैं।
  • 31 दिसंबर की रात से ही कई स्थानों पर अलग-अलग समूहों में इकट्ठा होकर लोग नए साल का जशन जश्न मनाना शुरू कर देते है और रात 12 बजते ही सभी एक दूसरे को नए साल की शुभकामनाएं देते हैं।
  • मेरे लिए नये साल का मतलब है, नई उम्मीदें, नए सपने, नए लक्ष्य, नए आईडियाज के साथ इसका स्वागत किया जाता है।

नववर्ष क्यों मनाया जाता है क्या है इसकी मान्यता

ऐसा माना जाता है कि साल का पहला दिन अगर उत्साह और खुशी के साथ मनाया जाए, तो साल का हर दिन इसी उत्साह और खुशियों के साथ ही बीतेगा। चलिए अब हम जानते है कि किस उल्लास के साथ नव वर्ष मनाया जाता हैं-

नव वर्ष एक उत्सव की तरह पूरे विश्व में अलग अलग स्थानों पर अलग अलग विधियों से मनाया जाता है।

ज्यादातर देशों में नव वर्ष 31 दिसंबर की रात को 12 बजे के बाद 1 जनवरी को मनाते है।

आज कल छोटे-छोटे बच्चों से लेकर बड़े-बूढ़े मिलकर पार्टी करते हैं, खान पान का आयोजन करते हैं। नए साल की खुशी में कई स्थानों पर पार्टी भी आयोजित की जाती है जिसमें नाच-गाना और स्वादिष्ट व्यंजनों के साथ-साथ मजेदार खेलों के जरिए मनोरंजन का प्रबंध भी किया जाता है। कुछ लोग धार्मिक कार्यक्रमों का आयोजन कर ईश्वर को याद कर नए साल की शूरूआत करते हैं।

कुछ लोग अपने परिवारजनों के साथ घूमने या पिकनिक का आयोजन कर मौज मस्ती करते हैं। तो कुछ लोग अपने दोस्तों के साथ फिल्म देखने, घूमने फिरने, क्लब या मॉल भी जाते है तो कुछ लोग मेरे जैसे होते है जो ठण्ड की वजह से रजाई में ही बैठ के अपना पूरा दिन उस रजाई में निकल देते हैं।

दोस्तों, आज कल तो हर त्यौहार हर इंसान मनाने लगता है, लेकिन यह प्रमुख त्यौहार ईसाई धर्म के लोगों का है। वो इसे बिलकुल एक त्यौहार स्वरुप चर्च में जाकर अपने गॉड को याद कर मोमबत्ती जलाकर अच्छी तरह से उस दिन को मनाते हैं।


Essay on Happy New Year 2022 in Hindi

Happy New Year Gif
Happy New Year 2022 Gif

नया साल हर किसी के लिए उम्मीद की किरण बनकर आता है लोग अपने साल को जैसे भी बिताते है उसके बाद वह साल के आखिरी महीने यानी कि दिसंबर में नए साल का बेसब्री से इंतजार करते हैं। नए साल के साथ लोगों की एक अलग उम्मीद जुड़ी होती है उन्हें ऐसा लगता है कि नए साल आने पर उनकी हर परेशानी ठीक हो जाएगी या फिर उन्हें ऐसा लगता है जैसे नए साल पर वह चीजें नहीं होगी, जैसे पुराने साल में हुई थी।

अब देखिए ना, साल 2020 में जब कोरोना आया था तब लोगों ने 2021 से बहुत सी उम्मीदें लगा कर रखी थी इसीलिए 2021 का नया साल बहुत ही धूमधाम से मनाया गया था।

Gregorian Calendar और Julian Calendar के अनुसार नया साल 1 जनवरी को मनाया जाता है। नया साल आने से पहले ही लोग इसकी तैयारी करने लगते है और ठीक रात के 12:00 बजे नए साल की खुशी मनाते हैं। 31 दिसंबर की रात में जैसे ही 12 बजता है! वैसे ही लोग एक दूसरे को नए साल की मुबारक बाद देने लगते हैं।

नया साल हर देश में मनाया जाता है और हर देश के लोग बड़े जोर शोर से नए साल का स्वागत करते हैं! बहुत से लोग तो नए साल आने की खुशी में नए नए कपड़े पहन कर घूमने के लिए भी जाते हैं। वहीं कुछ लोग नए साल की शुरुआत पटाखे फोड़ कर और पार्टी करके करते हैं। अमीर लोग नए साल की शुरुआत बिल्कुल जश्न की तरह मनाते हैं। नई साल के समय भी बाजार में सजावट के सामान और रंग बिरंगी लाइट की बिक्री होती हैं। नए साल के आगमन पर सभी लोग नए-नए रेजोल्यूशन लेते है और कुछ लोग नए-नए गोल सेट करते हैं।

नए साल पर रेजोल्यूशन करना बहुत ही आम बात है ज्यादा लोग ऐसा करते है क्योंकि उन्हें लगता है कि नए साल पर जब वह अपनी जिंदगी की शुरुआत नई तरह से करेंगे और नई आदतों को अपनाएंगे तो उनकी जिंदगी बेहतर हो जाएगी। पहले जहां लोग नए साल की शुरुआत एक दूसरे को गले लग कर और सबके साथ समय बिताकर करते थे वही आजकल लोग फोन करके या फिर मैसेज करके एक दूसरे को नए साल की बधाई देते हैं।

सोशल मीडिया के जमाने में न्यू ईयर स्टेटस लगाकर और पोस्ट डाल कर की जाती है। टेक्नोलॉजी चाहे जितनी भी आगे बढ़ जाए लेकिन लोग उतना ही उत्साह से आज भी नए साल को मनाते हैं।


Happy New Year Speech in Hindi

Happy New Year Gif
Happy New Year Gif

नया साल मनाने की रीति भारत की नहीं है बल्कि पश्चिमी सभ्यता से ली गई है। पश्चिमी सभ्यता में 4000 साल पहले बेबीलॉन में नया साल मनाया जाता था। लेकिन उस समय नया साल 21 मार्च के दिन मनाया जाता था। पर जब से जूलियन कैलेंडर आया तब से लोग नए साल को 1 जनवरी को मनाते हैं। प्रत्येक साल में 365 दिन होते है जिसके पूरे हो जाने के बाद 1 जनवरी के दिन पिछले साल को अलविदा कहकर नए साल की शुरुआत की जाती है। पूरी दुनिया पश्चिमी सभ्यता से प्रेरित होकर 1 जनवरी के दिन नए साल की खुशी मनाता है।

अब अगर नए साल की बात हो ही रही है तो हम आपको बता दें कि भारत में नए साल की शुरुआत अलग-अलग धर्म के लोग भिन्न भिन्न समय पर मनाते हैं।

  • आंध्र प्रदेश में तेलुगू लोग अपना नया साल मार्च से अप्रैल के महीने में मनाते हैं!
  • इस्लाम धर्म के अनुसार उनके नए साल की शुरुआत मोहर्रम के त्यौहार से होती है।

भारत में नए साल के अवसर पर बहुत से सांस्कृतिक नृत्य प्रोग्राम या अन्य किसी तरह के प्रोग्राम का आयोजन किया जाता है। 25 दिसंबर से लेकर 1 जनवरी तक सड़कों पर अलग ही चहल-पहल देखने को मिलती है। लोग नए साल का स्वागत जोश उत्साह और खुशी के साथ करते हैं। इन दिनों टेलीविजन पर रेडियो पर लोगों के नए साल सेलिब्रेट करने के बारे में बताया जाता है। ज्यादातर लोग चाहे वह middle-class हो या फिर अमीर, नए साल के अवसर पर केक काटते हैं और खुशी के साथ अपना साल शुरू करते हैं यह सोचते हुए कि अगर उनका पहला दिन अच्छा जाएगा तो उनका पूरा साल अच्छा जाएगा।

नए साल को लोग एक उत्सव के रूप में मनाते है जिस तरह उत्सव में एक दूसरे को बधाई दी जाती है। वैसे ही नया साल शुरू होने पर लोग एक दूसरे को बधाई देते है और एक दूसरे की खुशी के लिए प्रार्थना करते हैं। वैसे तो भारत में सभी धर्मों का नया साल अलग-अलग होता है लेकिन 1 जनवरी के दिन हर कोई अपना धर्म भूल कर नए साल का स्वागत करता है। 25 दिसंबर और 1 जनवरी भारत के कैलेंडर की एक बहुत ही महत्वपूर्ण तारीख मानी जाती है और लोग इन दिनों बहुत ज्यादा खुश होते हैं।


प्रिय मित्रो, मेरा आज का New Year Essay का यह लेख यही समाप्त हो रहा है, अगर आपको मेरा ये लेख अच्छा लगा हो तो कमेंट करके बताइए और शेयर करना ना भूले। आपका नया साल खुशियों के साथ जाये यही हम दुआ करते है। आप सभी को हिमांशु ग्रेवाल की और से Happy New Year 2022.

Related Stories

Leave A Reply

Please enter your comment!
Please enter your name here