Advertisement

गणतंत्र दिवस पर भाषण 2022 (Republic Day Speech in Hindi)

गणतंत्र दिवस पर भाषण 2022 के इस लेख को शुरू करने से पहले आप सभी को हिमांशु ग्रेवाल की तरफ से गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं [Gantantra Diwas Ki Hardik Shubhkamnaye]। गणतंत्र दिवस हमारे देश का राष्ट्रीय पर्व है। यह पर्व 26 जनवरी 1950 को आजादी के बाद हमारे देश में संविधान लागू होने के रूप में मनाया जाता है। तब से हर साल हम 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस के रूप में मनाते आ रहे हैं।

भारतीय गणतंत्र दिवस पर भाषण 2022

इस राष्ट्र पर्व पर 26 जनवरी भाषण (Republic Day 2022 Speech in Hindi), सामूहिक चर्चा और अन्य कई महत्वपूर्ण गतिविधियां होती है जिसमें सभी देशवासी किसी न किसी प्रकार आवश्यक हिस्सा लेते है। कोई राजपथ पर इस राष्ट्रीय पर्व को देखने जाता है तो कोई इस दिन का आनंद टीवी पर समाचार द्वारा प्राप्त करता है। बच्चे अपने अपने स्कूल में गणतंत्र दिवस पर कार्यक्रम आयोजित करते है। इस दिन कई जगह रैलियां भी निकाली जाती है।

इस दिन की तैयारी कई दिन पहले से प्रारंभ हो जाती है और राजपथ समारोह के लिए तो कई महीने पहले से तैयारी की जाती है, सुरक्षा के सभी इंतजाम किये जाते है ताकि कोई भी आक्रमण गतिविधि न हो। अगर आपको गणतंत्र दिवस के विषय में जानकारी प्राप्त करनी है तो आप गणतंत्र दिवस क्यों मनाया जाता है (महत्व और निबंध) वाला लेख पढ़ सकते हो। अब हम 2022 Speech on Republic Day in Hindi को पढ़ना शुरू करते है। आप अपने स्कूल व कॉलेज में गणतंत्र दिवस के उपलक्ष्य में इस रिपब्लिक डे स्पीच को बोल कर लोगों के मन में देश प्रेम की भावना और उनका उत्साह बढ़ा सकते है। तो भारत माता की जय के साथ गणतंत्र दिवस 2022 भाषण को पढ़ना शुरू करते हैं।

26 जनवरी पर शानदार भाषण यहां से शुरू होता है

Happy Republic Day - Indian Flag Images
Indian Flag Images

Republic Day Speech Hindi For Students 2022

मेरी और से प्रधानाचार्य और सभी शिक्षक तथा यहां उपस्थित अन्य सभी अतिथियों को मेरा प्रणाम! » आज मैं आपको देश भक्तों की गाथा से भरे इतिहास के पन्नों को खोलकर कुछ सुनाने आया हूँ।

मातृभूमि की रक्षा हेतु असंख्य वीरों ने अपने जीवन की आहुति दी थी। इस देश को देश प्रेमियों ने अपनी धरती को स्वतंत्रता दिलाने के लिए स्वयं को न्योछावर कर दिया था। इन्हीं देश प्रेमियों के त्याग और बलिदान के परिणाम में आज हमारा देश स्वतंत्र और गणतांत्रिक देश बना है।

13 अप्रैल 1919 को जलियांवाला बाग की घटना ने भगत सिंह और उधम सिंह जैसे क्रांतिकारियों को जन्म दिया था। उस घटना के दौरान जनरल डायर के नेतृत्व में ब्रिटिश फौज ने कई मासूम हिन्दुस्तानियों को मार डाला था। इस घटना के बाद सभी हिन्दुस्तानियों का दिल आजादी पाने की आग में जलने लगा था। लोग अपनी जान की बलिदानी तक देश को देने को त्यार थे। 26 जनवरी 1930 को स्वतंत्रता सेनानी और क्रांतिकारीयो ने यह शपथ ली थी की जब तक भारत स्वतंत्र नहीं हो जाता तब तक यह आंदोलन इसी तरह चलता रहेगा तथा 15 अगस्त 1947 को भारत देश को आजादी मिली और 26 जनवरी 1950 को भारत देश को लोकतान्त्रिक गणराज्य देश के रूप में घोषित किया गया।

धन्यवाद

गणतंत्र दिवस का छोटा सा भाषण यहां खत्म होता है।

Republic Day Speech in Hindi 2022 For Teachers

यहां पर उपस्थित सभी आदरणीय गुरुजनों एवं स्कूल के समस्त विद्यार्थियों एवं कर्मचारियों को मेरी तरफ से गणतंत्र दिवस 2022 की हार्दिक शुभकामनाएं। मेरा नाम हिमांशु ग्रेवाल (अपना नाम बोले) ही है और मैं ज्ञान भारती विद्यालय (अपने विद्यालय का नाम बोले) का कक्षा 12वीं का छात्र हूं। मैं अपने गुरुजनों को सबसे पहले तो इस बात के लिए हार्दिक आभार प्रकट करता हूं कि उन्होंने 26 जनवरी के इस पावन मौके पर मुझे 26 जनवरी का भाषण देने का मौका दिया।

grammarly

जैसा कि आप जानते है कि आज हम अपने प्यारे भारत देश का गणतंत्र दिवस मना रहे है क्योंकि आज 26 जनवरी है। यह एक ऐसी तारीख है जो हर उस भारतवासी के दिल में एक अहम स्थान रखती है जो अपने देश से बेपनाह मोहब्बत करता है। 26 जनवरी को हम सामान्य तौर पर गणतंत्र दिवस के नाम से जानते हैं। इस दिन हमारे देश में हर जगह पर विभिन्न प्रकार के सांस्कृतिक कार्यक्रम होते है और सभी लोग इन कार्यक्रमों में मिलजुल कर एक दूसरे के साथ भारत के गणतंत्र दिवस को सेलिब्रेट करते हैं और अपनी देशभक्ति को प्रदर्शित करते हैं।

प्यारे दोस्तों यह बात तो आप अच्छी तरह से जानते है कि अंग्रेजों के साथ कठिन संघर्ष करने के बाद और कितने ही भारतीय लोगों ने जब अपने प्राणों की आहुति दी थी। जिसके बाद हमें साल 1947 में 15 अगस्त के दिन अंग्रेजों की गुलामी से आजादी मिली थी और हमारा देश एक स्वतंत्र राष्ट्र के तौर पर पूरी दुनिया में जाना जाने लगा था। हालांकि स्वतंत्रता के बाद भी हमारे भारत देश के पास अपना खुद का कोई भी संविधान नहीं था और इसीलिए स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद डॉक्टर भीमराव रामजी आम्बेडकर के नेतृत्व में भारतीय संविधान का एक प्रारूप तैयार किया गया और इसे साल 1950 में 26 जनवरी के दिन लागू किया गया, तब से हर भारतीय उसी संविधान को मान रहे है।

26 जनवरी को गणतंत्र दिवस कहते है जिसका अर्थ सर्वोच्च शक्ति होता है। आज के टाइम में हमारा देश पूरी
दुनिया में एक लोकतांत्रिक देश के तौर पर जाना जाता है। एक लोकतांत्रिक देश में होने के कारण हमारे देश में लोगों को कई मूलभूत अधिकार प्राप्त हैं जैसे वह अपना नेता चुन सकते हैं, खुद भी चुनाव लड़ सकते है इत्यादि। इसके साथ ही साथ उन्हें कई मानव अधिकार भी प्राप्त है जिसका हनन होने पर वह मानव अधिकार आयोग में रिपोर्ट भी कर सकते हैं। इस प्रकार इंडिया में अलग-अलग धर्मों के लोग रहने के बावजूद भी सभी को एक समान अधिकार प्राप्त है जिसके लिए हमारा भारतीय संविधान तारीफ के काबिल है।

हमारे देश में हर साल 26 जनवरी का दिन भव्य रूप से देश की राजधानी नई दिल्ली में काफी बड़े पैमाने पर मनाया जाता है। उस दिन सेना की विभिन्न रेजिमेंट के द्वारा इंडिया गेट पर परेड भी की जाती है साथ ही हर साल हमारे देश के गणतंत्र दिवस पर कुछ खास विदेशी मेहमानों को भी बुलाया जाता है। अभी तक कई देशों के शासनाध्यक्ष गणतंत्र दिवस पर हमारे देश के मेहमान बन चुके हैं।‌

गणतंत्र दिवस पर सबसे पहले भारत के राष्ट्रपति के द्वारा तिरंगा झंडा फहराया जाता है उसके बाद सभी लोग एक साथ मिलकर के दिल्ली के इंडिया गेट पर राष्ट्रगान का गायन करते हैं। गणतंत्र दिवस के मौके पर आयोजित समारोह में कई पूर्व सैनिकों को और वीआईपी गेस्ट को बुलाया जाता है। इसके साथ ही इस समारोह में विभिन्न अवार्ड का भी वितरण सैनिकों को किया जाता है ताकि उन्हें राष्ट्र के द्वारा सम्मान प्राप्त हो सके और राष्ट्र का सामान्य आदमी भी यह जान सके कि उन्होंने राष्ट्र के लिए कौन से वीरता का काम किया हैं।

गणतंत्र दिवस 2022 के मौके पर अलग-अलग राज्यों के द्वारा इंडिया गेट पर झांकी भी निकाली जाती है जिसे देखने का अपना ही आनंद होता है। हर साल आने वाला गणतंत्र दिवस हमें इस बात की याद दिलाता है कि हमें कभी भी इस बात को नहीं भूलना चाहिए कि कितने ही लोगों ने जब अपने प्राणों की आहुति दी तब जाकर हमें इस पावन दिन को सेलिब्रेट करने का मौका प्राप्त हुआ। क्योंकि लगातार 200 सालों की अंग्रेजों की गुलामी के बाद हमारा भारत देश आजाद हुआ था और उसके बाद भारतीय संविधान बना था।

हम सभी को यह वचन लेना चाहिए कि हम एक देशभक्त बनकर अपने देश की उन्नति के लिए काम करें तथा देश पर किसी भी प्रकार की आपदा आने पर हम अपने देश की ढाल बनकर खड़े रहे।

गणतंत्र दिवस के इस पावन मौके पर मैं यहां पर उपस्थित सभी लोगों से यहीं आग्रह करता हूं कि वह एक अच्छे भारतीय बने और देश की तरक्की के लिए काम करें ताकि आने वाले समय में हमारा देश दुनिया के अन्य देशों को सही राह दिखाएं और विश्वगुरु बनकर भारत का सितारा फिर से बुलंदियों पर चमके।

धन्यवाद, जय हिन्द | भारत माता की जय | वन्दे मातरम् (२)

Best Poem on Republic Day in Hindi 2022

Best Republic Day Speech in Hindi For Teacher

Deshbhakti Poem in Hindi

जब भारत ने गणतंत्र मनाया
तब इस देश ने लोकतंत्र पाया
मतदान हुआ जन जन का अधिकार
यही बना हमारा हथियार
अब सत्ता भी हम लाते है
सरकार हम खुद बनाते है
इस देश की शान तिरंगा है
पावन यह यमुना - गंगा है
हाथ में लेकर तिरंगा प्यारा
जन गण मन हम जाएंगे
सत्य,अहिंसा, शांतिप्रिय, न्यारा
भारत हम भी बनाएंगे॥

26 January Republic Day Speech in Telugu | 26 January Speech in Telugu

రిపబ్లిక్ డే ప్రసంగం 2022

Republic Day Speech in Telugu


Speech on 26 January Republic Day in Hindi

गणतंत्र दिवस पर भाषण 2022: भारत अब एक लोकतांत्रिक देश है। इस देश के प्रत्येक नागरिक को सामान नागरिकता का अधिकार है। हम खुद वोट देकर मुख्यमंत्री, प्रधानमंत्री का चुनाव करते है| हमे अपना नेता अपने आप चुनने का पूरा हक है हमे किसी भी व्यक्ति को कोई व्यक्ति न समझकर यह समझना चाहिए की वो व्यक्ति भी हम में से ही एक है।

गणतंत्र दिवस के दिन ऐतिहासिक राजपथ पर (दिल्ली) विशेष इंतजाम किये जाते है। राजपथ पर इस राष्ट्रिय पर्व को ऐतिहासिकता से हर वर्ष मनाया जाता है। राजपथ पर तीनों सेनाओं जल सेना, वायु सेना, थल सेना अपनी अपनी सैन्य शक्ति का प्रदर्शन करती है। भारतीय सेना परेड और सभी राज्यों की सुन्दर झांकी का प्रदर्शन भी करती है तथा इस दिन मुख्य अतिथि के रूप में वहाँ राष्ट्रपती, उपराष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, सेना प्रमुख जनरल होते है। इसके अलावा देश भर से चुने गए NCC कैडेट भी परेड कर अपना प्रदर्शन करते है। प्रत्येक वर्ष 26 जनवरी को प्रधानमंत्री द्वारा इण्डिया गेट पर स्थित अमर जवान ज्योति पर पुष्प चक्र अर्पित कर शहीदों को श्रद्धांजलि दी जाती है। इस दिन राजपथ पर देश के अलग अलग राज्यों की सांस्कृतिक समृद्धि को दर्शाया जाता है।

सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि गणतंत्र दिवस के दिन भारतीय राष्ट्र ध्वज को भारत के राष्ट्रपति के द्वारा फहराया जाता है।

राजपथ के अलावा इस दिन वाघा बॉर्डर पर भी इसी ऐतिहासिकता से प्रत्येक वर्ष गणतंत्र दिवस मनाया जाता है

वाघा बॉर्डर एक सैनिक चौकी है जो की अमृतसर और लाहौर के बीच स्थित है। यह सीमा रेखा भारत की एक मात्र सड़क सीमा रेखा है इसे स्वर्ण जयंती गेट के नाम से भी जाना जाता है। इस गणतंत्र दिवस पर हमे मिल कर एक शपथ लेनी चाहिए की हम सब साथ मिलकर इस देश को अमीरी – गरीबी की मानसिकता को दूर कर इस देश को विकसित देश बनाना है। इस देश को भ्रष्टाचार से मुक्त करने के लिए हमे एक जुट होकर भारतीय नियमों और भारतीय संविधान का अनुगमन करना चाहिये।

भ्रष्टाचार को अगर भगाना है
हर नागरिक को आगे आना है॥

भारतीय होने के नाते हम पूरी तरह जिम्मेदार है कि हम अपने देश के नियम व संविधान का पालन करके देश की नियमितता को बनाये रखे। हजारो स्वतंत्रता सेनानियों की कुर्बानी के बाद ये देश आजाद हुआ था। बहुत वर्षों के संघर्ष के बाद आजादी मिली थी, उस सवतंत्रता सेनानियों के बहुमूल्य बलिदान को हमे व्यर्थ नहीं जाने देना है। हमे समाज से भेदभाव जैसी गन्दी चीज को बहार निकाल कर देश को बेहतर बनाना है। देश की संस्कृति की रक्षा कर भारत को हमे फिर से हिंदुस्तान बनाना है।

| जय हिंदी जय भारत | भाता माता की जय | वन्दे मातरम् |

Republic Day Speech in English for Teachers 2022

छात्र और शिक्षकों के लिए अंग्रेजी में गणतंत्र दिवस भाषण 2022 की तैयारी कैसे करें। इस वर्ष 2020 में, भारत 72 वां गणतंत्र दिवस मनाएगा। यद्यपि भारत ने 1947 में ब्रिटिशों से स्वतंत्रता प्राप्त की थी, लेकिन यह 26 जनवरी 1950 को हुआ था, जब देश ने अपना संविधान अपनाया था जो सभी के लिए स्वतंत्रता और समानता का वादा करता था। इसलिए, हम हर साल 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस मनाते हैं।

यदि आपको एक संपूर्ण गणतंत्र दिवस भाषण की आवश्यकता है, तो हमारे पास आपके लिए सही सुझाव हैं। आप एक भाषण प्रतियोगिता में भाग ले सकते है और उसके लिए, आपको अपने भाषण को वास्तव में अविस्मरणीय बनाने के लिए आपको कुछ सही विचारों की आवश्यकता है। यहाँ 26 जनवरी भाषण 2022 पर कुछ अच्छा भाषण दिया गया है।

26 January Speech 2022 in English for Teachers

Republic Day Speech in English for Teachers
26 January Speech in English for Teachers

26 January Speech in Hindi 2022 For Teacher

आदरणीय प्रधानाचार्य महोदय, मेरे शिक्षकों, और मेरे प्रिय मित्रों को सुप्रभात।

मेरा नाम है______ मैं कक्षा ______ में पढ़ता हूँ। आपने मुझे गणतंत्र दिवस पर कुछ बोलने का इतना अच्छा अवसर दिया उसके लिए मैं आपका धन्यवाद कहना चाहूंगा।

आज, हम सभी अपने राष्ट्र के 72 वें गणतंत्र दिवस का जश्न मनाने के लिए यहाँ हैं। यह हम सभी के लिए एक महान और शुभ अवसर है। हमें एक दूसरे को शुभकामनाएं देनी चाहिए और अपने राष्ट्र के विकास और समृद्धि के लिए ईश्वर से प्रार्थना करनी चाहिए। हम भारत में हर साल 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस मनाते है क्योंकि इस दिन भारत का संविधान लागू हुआ था।

हम भारत के गणतंत्र दिवस को नियमित रूप से 1950 से मना रहे हैं क्योंकि 1950 में 26 जनवरी को भारत का संविधान लागू हुआ था। भारत एक लोकतांत्रिक देश है जहाँ जनता को देश का नेतृत्व करने के लिए अपने नेताओं का चुनाव करने के लिए अधिकृत किया जाता है।

डॉ राजेंद्र प्रसाद हमारे भारत के पहले राष्ट्रपति थे। चूंकि हमें 1947 में ब्रिटिश शासन से आजादी मिली थी, इसलिए हमारे देश का बहुत विकास हुआ और शक्तिशाली देशों में गिना गया। कुछ विकासों के साथ, कुछ कमियां भी पैदा हुई हैं जैसे कि असमानता, गरीबी, बेरोजगारी, भ्रष्टाचार, अशिक्षा, आदि। हमें अपने देश को दुनिया का सर्वश्रेष्ठ देश बनाने के लिए समाज में ऐसी समस्याओं को हल करने के लिए आज संकल्प लेने की जरूरत है।

जय हिंद

FAQs

प्रश्न: गणतंत्र दिवस कब से लागू हुआ?

उत्तर: 26 जनवरी वर्ष 1950 में लोकतांत्रिक प्रणाली के तहत देश में गणतंत्र दिवस लागू किया गया।

प्रश्न: वर्ष 2021 में हम कौन सा गणतंत्र दिवस मना रहे हैं?

उत्तर: इस वर्ष 2022 में हम 73वाँ गणतंत्र दिवस मनाने जा रहे है।

प्रश्न: 26 जनवरी को भी गणतंत्र दिवस क्यों मनाया जाता है?

उत्तर: इसके पीछे एक विशेष कारण है। वर्ष 1930 में 26 जनवरी के दिन ही भारतीय राजनीतिक पार्टी कांग्रेस द्वारा देश में पूर्ण स्वराज की घोषणा की गई और तभी से इस दिन को गणतंत्र दिवस के तौर पर मनाया जा रहा है।

प्रश्न: गणतंत्र दिवस और स्वतंत्रता दिवस में क्या अंतर है?

उत्तर: संविधान दिवस के उपलक्ष्य में गणतंत्र दिवस मनाया जाता है जबकि देश की आजादी के जश्न में स्वतंत्रता दिवस मनाया जाता है।

प्रश्न: भारत का पहला प्रथम दिवस कब मनाया गया था?

उत्तर: वर्ष 1950 में 26 जनवरी को पहली बार गणतंत्र दिवस मनाने की शुरुआत की थी।

प्रश्न: भारतीय गणतंत्र के पहले राष्ट्रपति कौन थे?

उत्तर: भारत के पहले राष्ट्रपति डॉ राजेंद्र प्रसाद थे, उनके इसी पद पर रहते हुए पहली बार भारत में गणतंत्र दिवस मनाया गया था।

प्रश्न: भारत पूर्ण संप्रभु लोकतांत्रिक गणतंत्र कब बना?

उत्तर: वर्ष 1947 में मिली देश की आजादी के पश्चात वर्ष 1950 में जब देश का संविधान लागू हुआ तभी से भारत पूर्ण संप्रभु लोकतांत्रिक गणतंत्र बन गया।

प्रश्न: भारत के प्रथम गणतंत्र दिवस के मुख्य अतिथि कौन थे?

उत्तर: 26 जनवरी वर्ष 1950 में जब देश का पहला गणतंत्र दिवस मनाया गया तो इस विशेष दिन पर इंडोनेशिया के राष्ट्रपति सुकर्णो मौजूद थे। अतः इस प्रकार कहा जाए तो गणतंत्र दिवस पर मुख्य अतिथि को बुलाए जाने का चलन काफी पुराना है।

प्रश्न: राजनीतिक भाषण कैसे दें?

उत्तर: राजनीतिक भाषण देने के लिए सार्वजनिक भाषण देने का आत्मविश्वास व्यक्ति के अंदर होना चाहिए। संक्षेप में कहें तो एक अच्छा स्पीकर (वक्ता) होना अत्यंत आवश्यक है और एक अच्छे स्पीकर बनने की यह कला लगातार अभ्यास और आत्मविश्वास के साथ आती है। आपकी सहायता हेतु नीचे इस कार्य में कुछ टिप्स दिए गए है, जो आपको एक अच्छा भाषण देने में मददगार साबित होंगे।

  • विषय को गहराई से समझें

आप मंच पर आधा अधूरा ज्ञान लेकर दूसरों को किसी विषय पर ज्ञान नहीं दे सकते। क्योंकि ऐसी स्थिति में व्यक्ति की जानकारी के आगे प्रश्नचिन्ह हमेशा बना रहता है, जिस टॉपिक पर आपको बोलने का मौका दिया गया है उस टॉपिक पर होमवर्क करके जाएं। अर्थात आपको उस टॉपिक पर गहन जानकारी होनी चाहिए। अगर आप उस टॉपिक के बारे में अच्छे से जानकारी रखेंगे, तभी आप दूसरों को भी वह समझा पाएंगे। साथ ही मंच से उस टॉपिक पर अगर कोई प्रश्न भी खड़ा कर दे तो उस पर आप अपना जवाब दे पाए।

  • अपनी ऑडियंस को समझें

स्पीच देने से पूर्व उसकी तैयारी हेतु पहले आपके दिमाग में यह प्रश्न आना चाहिए कि मैं किस टाइप की ऑडिएंस तक अपनी बात पहुंचाना चाहता हूं, उनकी किस चीज में रुचि है और वे किस तरह आपकी बात मान सकते हैं। जब एक बार आप ऑडियंस की पसंद ना पसंद को समझ लेते है तो अपनी बात को उन तक पहुंचाना काफी आसान हो जाता है।

  • स्पीच को याद करके न जाए बल्कि समझे

अक्सर रट्टा मारने वाले लोग मंच से अपने भाषण को भूल जाते है जिसमें बड़ी बेइज्जती महसूस होती है। तो जिस भी स्पीच को बोलने जाने वाले है, उसे याद करने की बजाय समझना शुरू करें। और अपने शब्दों में उसे बोलने की प्रैक्टिस करें एक बार जब आप उस टॉपिक को अपने शब्दों में एक्सप्लेन करना सीख जाते है तो आप मंच से भी अपने विचारों को बिना रुके लोगों तक पहुंचा पाएंगे। तो यह थी कुछ ध्यान रखने योग्य बातें, जिनसे आप सार्वजनिक तौर पर अपनी बातें लोगों तक पहुंचा सकते हैं।

प्रश्न: गणतंत्र दिवस पर भाषण कैसे दे?

उत्तर: अगर मंच से आपको गणतंत्र दिवस पर भाषण देने के लिए आमंत्रित किया जाता है तो आप इस मौके पर एक शानदार गणतंत्र दिवस स्पीच मंच से सुना सकते हैं। इस कार्य में आप इंटरनेट की मदद ले सकते हैं, एक ऐसे ही भाषण की एक झलक आपको यहां दी गई है।

—–

आदरणीय प्रधानाचार्य जी, शिक्षकगण एवं सभी सहपाठियों को सुप्रभात!!

मेरा नाम ____ है। मैं कक्षा ____ छात्र हूं। आज गणतंत्र दिवस के इस पावन अवसर पर मुझे इस दिवस पर अपने विचारों को आप तक रखने का मौका मिला है जिसके लिए मैं अपने क्लास टीचर का तहे दिल से धन्यवाद करना चाहूंगा।

स्वतंत्रता सेनानियों द्वारा किए गए कठिन संघर्ष एवं वीर शहीदों की शहादत की बदौलत वर्ष 1947 में हमारा देश अंग्रेजों की गुलामी से आजाद हो गया लेकिन देश के नागरिकों को वास्तविक आजादी एवं नागरिकता का एहसास 26 जनवरी 1950 को हुआ जब देश में संविधान की स्थापना कर हमारे देश को पूर्ण संप्रभु लोकतांत्रिक गणराज्य का दर्जा मिला। इसलिए हम सभी भारतीयों के लिए 26 जनवरी का दिन बेहद महत्वपूर्ण है। इसलिए इस दिवस पर खुशी एवं सौहार्द के साथ सभी धर्म जाति समूह के लोगों द्वारा झंडारोहण कर मिठाईयां बांटकर एक दूसरे को गणतंत्र दिवस की बधाई देकर यह दिन मनाया जाता है।

देश की आजादी से पूर्व ही देश को एक लोकतांत्रिक राष्ट्र बनाने की तैयारियां शुरू हो चुकी थी। वर्ष 1930 में जब 26 जनवरी के दिन पूर्ण स्वराज का प्रस्ताव लागू हुआ तभी से देश के इतिहास में यह तिथि बेहद खास हो गई। देश की आजादी के पश्चात देश के संविधान का निर्माण करने हेतु एक संविधान सभा बनाई गई। जिसकी अध्यक्षता डॉ भीमराव आंबेडकर द्वारा की गई, उनकी देखरेख में नियमों अधिकारों का एक ऐसा दस्तावेज तैयार हुआ जिसे हिंदी और अंग्रेजी भाषाओं में लिखा गया था। यह संविधान आज भी संसद में संभाल कर हीलियम से भरे केस में रखा गया है।

हमारे देश का संविधान दुनिया का सबसे बड़ा लिखित संविधान है, और हमें गर्व है कि हम एक ऐसे राष्ट्र में रहते है जहां लोकतांत्रिक प्रणाली से सरकारी चलती है जिसमें जनता के हित को प्राथमिकता दी जाती है। अतः मंच से मैं यही कहना चाहूंगा कि एक देशवासी होने के नाते हमारा भी यह कर्तव्य बनता है कि देश के संविधान में लिखित नियमों कानूनों का पालन कर इस देश के विकास एवं इसकी गरिमा बनाए रखने में अपना योगदान दे।

प्रश्न: आजादी पर भाषण: Speech on freedom in Hindi

उत्तर: 15 अगस्त वर्ष 1947 में देश को मिली आजादी किसी सपने से कम नहीं थी। क्योंकि 200 वर्षों की गुलामी के शासन से जब भारत मुक्त हुआ तो यह भारतीयों के लिए गौरव के क्षण थे। देश की आजादी में अनेक स्वतंत्रता सेनानियों के अथक प्रयासों एवं वीर जवानों की शहादत ने आखिरकार इस भूमि से अंग्रेजों को खदेड़ दिया जिसके लिए हम देशवासी अपने शहीद जवानों और स्वतंत्रता सेनानियों का सदैव कर्जवान रहेंगे। इसलिए 15 अगस्त के दिन आजादी का जश्न पूरे भारतवर्ष में स्वतंत्रता दिवस के तौर पर मनाया जाता है।

इस मौके पर झंडारोहण किया जाता है और मिठाइयां बांटी जाती है और पतंग उड़ाकर इस दिन को बड़ी धूमधाम से मनाया जाता है।

स्वतंत्रता प्राप्ति के पश्चात देश में संविधान लागू हुआ जिसने देश की जनता को उनके मौलिक अधिकारों से अवगत किया और लोकतांत्रिक प्रणाली से चलने वाली सरकार का गठन हुआ। देश की मिली बाहरी आजादी के साथ-साथ देश की आंतरिक समस्याओं से निपटना एक चुनौतीपूर्ण कार्य था। प्रधानमंत्री नेहरू के अध्यक्षता में देश को फिर से पटरी पर लाने के लिए भरसक प्रयास किए गए। आज तकरीबन 73 वर्षों बाद हमारा देश विश्व की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्थाओं में से एक है और आजादी का यह दिवस हमें देश की आजादी के खातिर वीर जवानों की शहादत की याद दिलाता है और इस देश के लिए कुछ बेहतर करने के लिए प्रेरित करता है।

प्रश्न: गणतंत्र दिवस पर अध्यापक का भाषण 2022

उत्तर: आदरणीय प्रधानाचार्य जी एवं यहां उपस्थित साथियों एवं प्रिय छात्रों को मेरा सुप्रभात। आज गणतंत्र दिवस के इस मौके पर हम सभी यहां उपस्थित है। इस मौके पर मैं आपके समक्ष इस दिन की महत्वता पर कुछ शब्द कहना चाहूंगा।

हर साल हमारे देश में 26 जनवरी का दिन किसी त्योहार से कम नहीं होता। इस दिन को एक राष्ट्रीय पर्व मानकर हम गणतंत्र दिवस के तौर पर मनाते हैं। गणतंत्र दिवस को देश का संविधान दिवस भी कहा जाता है। इसी दिन 26 जनवरी 1950 को देश का संविधान लागू कर देश को एक गणतंत्र राष्ट्र का दर्जा प्राप्त हुआ था।

2 साल 11 माह 18 दिन की समय अवधि में तैयार हुआ हमारे देश का संविधान दुनिया के अन्य देशों के समक्ष अद्भुत विशेष और मार्गदर्शक है। जो देश की जनता को उनके मौलिक अधिकारों से अवगत कर उन्हें इस देश में स्वतंत्र पूर्वक जीवन जीने के साथ-साथ न्यायिक प्रक्रिया से अपने अधिकारों का लाभ लेने में सहायता करता है।

लोकतांत्रिक प्रणाली में विश्वास रखने वाले देशों के लिए हमारे देश का संविधान एक आदर्श है, हमें अपने इस संविधान का सदैव सम्मान कर इसमें वर्णित अपने अधिकारों का सदुपयोग कर नियम एवं कानूनों का पालन कर इस संविधान की गरिमा बनाए रखने में योगदान देना चाहिए। । धन्यवाद।

गणतंत्र दिवस 2022 पर भाषण के इस लेख को आप कॉपी करके अपने स्कूल और कॉलेज में सुना सकते हो अथवा हमें कमेंट करके जरूर बताये की आपको Republic Day Best Hindi Speech कैसी लगी? अगर आपको 26 जनवरी पर भाषण 2022 पसंद आया हो तो इस लेख को व्हाट्सएप्प, ट्विटर, फेसबुक पर शेयर करना न भूले। जय हिंदी।

गणतंत्र दिवस पर भाषण 2022

21 thoughts on “गणतंत्र दिवस पर भाषण 2022 (Republic Day Speech in Hindi)”

  1. Me krishna kumar
    Prye deshwasio aap sabhi logo se ttha sabhi rajnetik prtiyo se yhi requst karta hu ki desh me jati dhrm ling bhed or kale gore ke nam par kisi bhi prkar se hinsa na failay
    Kuki esse dhesh ki arthwywstha par bura prbhw pdta hai

    Reply
  2. aapne bahut hi badhiya se republic day speech ko cover kiya hai, hamare desh vasiyo ke liye kafi helpful sabit hogi good job

    Reply

Leave a Comment