Advertisement
Diwali निबंध

मेरा प्रिय त्योहार दीपावली पर निबंध हिंदी में

Diwali Essay in Hindi
Written by Himanshu Grewal

नमस्ते, 10Lines.co में आज हम दिवाली पर निबंध अर्थात “in English, Diwali Essay in Hindi” के विषय के ऊपर चर्चा करने जा रहे हैं। तो लेख को अंत तक ध्यानपूर्वक पढ़ें और दिवाली कब है, दीपावली का निबंध हिंदी में 15 लाइन, 10 Lines on Diwali in Hindi, दीपावली का अर्थ, दिवाली क्यों मनाई जाती है, दीपावली का प्राचीन नाम क्या है और दीपावली का महत्व क्या है, इत्यादि की जानकारी प्राप्त करें और अपना ज्ञान तेज करें।

Diwali Essay in Hindi 10 Lines

भारत को त्योहारों का देश कहा जाता है। भारत में आए दिन कोई न कोई त्यौहार मनाए ही जाते हैं। वैसे तो भारत में सभी त्यौहार बहुत धूमधाम से मनाया जाता है लेकिन दीपावली की बात ही कुछ और होती है। दीपावली एक ऐसा त्यौहार है जिसे भारत के हर राज्य में मनाया जाता है। भगवान श्री राम की याद में मनाए जाने वाले इस पावन पर्व को आज भी पारंपरिक रीति रिवाज में मनाया जाता है। आज हम इस लेख के माध्यम से दिवाली के महा-पर्व का निबंध आपके समक्ष साझा कर रहे हैं।


दीपावली पर निबंध – 1

प्रस्तावना

दीपावली का त्यौहार बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक है। दीपावली अज्ञानता पर ज्ञानता का और अंधेरे पर प्रकाश के विजय का संदेश देता है। यही कारण है कि दीपावली के समय घर घर में दीए जलाए जाते हैं और हर तरफ रोशनी की जाती हैं। दीपावली एक धार्मिक और आध्यात्मिक त्यौहार है।

भारत का पवित्र त्योहार दिवाली पर निबंध

दीपावली के एक नहीं बल्कि कई सारे महत्व है। भारत के हर क्षेत्र में दीपावली मनाई जाती है और हर जगह दीपावली मनाने का तरीका भी अलग होता है। दीपावली एक ऐसा त्यौहार है जिसमें देवी देवताओं, संस्कृतियों और परंपराओं का जुड़ाव भी देखने को मिलता है। दीपावली का पावन त्यौहार कार्तिक महीने की अमावस्या के दिन मनाया जाता है। दीपावली एक ऐसा त्यौहार है जिसे ज्यादातर सभी धर्मों के लोग मनाते हैं।

हिंदुओं के पवित्र त्यौहार दीपावली को लोग बड़े ही धूमधाम से मनाते है। दीपावली का त्यौहार आने से पहले ही इसकी तैयारी शुरू हो जाती है। लोग त्यौहार मनाने के लिए अपने घरों की साफ-सफाई करते हैं। साफ सफाई के साथ-साथ बहुत से लोग अपने घरों को रंग भी करवाते हैं। इस पर्व के मौके पर घरों को बहुत ही सुंदरता से सजाया जाता है। औरतें दीपावली के अवसर पर घरों में रंगोली बनाती हैं और घर को फूलों से सजाती हैं। दीपावली के अवसर पर पहनने के लिए नए नए कपड़े बनाए जाते हैं।

दीपावली के दिन सभी लोग अपने घरों पर भगवान गणेश और लक्ष्मी जी की एक साथ पूजा करते हैं, धन और समृद्धि की प्रार्थना करते हैं।

दीपावली के 1 दिन पहले धनतेरस मनाया जाता है। लोग धनतेरस के दिन अपने घरों के लिए बर्तन, झाड़ू जैसी चीजें खरीदते हैं बहुत से लोग जिनके पास धन संपत्ति हैं वह लोग धनतेरस के शुभ अवसर पर सोने चांदी के गहने व सिक्के खरीदते हैं। दीपावली एक ऐसा त्यौहार है जिसे सभी वर्गों के लोग अपने अपने अंदाज में मनाते है। कुछ लोग इस त्यौहार को बहुत ही धूमधाम से मनाते हैं तो वही गरीब लोग छोटी मोटी चीजों से ही दीपावली मना लेते हैं।

निष्कर्ष

दिवाली भारत में मनाया जाने वाला एक बेहद पवित्र उत्सव है जिसे हर कोई बहुत ही प्रेम से मनाता है। बच्चे हो चाहे बूढ़े, गरीब हो या फिर अमीर सभी इस त्यौहार का पूरे साल इंतजार करते हैं और बड़े प्यार से इस दिन को मनाते हैं।


Essay on Diwali in Hindi – 2

प्रस्तावना

अच्छाई पर बुराई का संदेश देने वाले हिंदुओं के पवित्र पर्व दीपावली लोगों के हृदय में खुशी और उत्साह भर देती है। दीपावली आते ही लोगों के चेहरे पर मुस्कान आ जाती हैं। वैसे तो दीपावली के समय लोगों को अपने घरों में बहुत से काम रहते है लेकिन फिर भी लोग इस उत्सव को बहुत ही प्यार से मनाते हैं। दीपावली भारत में धूमधाम से मनाए जाने वाले पर्वों में से एक हैं। दीपावली का त्यौहार क्यों मनाया जाता है और इस त्यौहार का क्या महत्व है यह आप आगे जानेंगे!

grammarly

दीपावली क्यों मनाई जाती है निबंध

दीपावली एक ऐसा त्यौहार है जो एक नहीं बल्कि कई कारणों से मनाया जाता है। दीपावली मनाने के पीछे कई सारी दैविक कहानियां जुड़ी हुई हैं। दीपावली के पर्व को विभिन्न लोग अलग-अलग कारणों से मनाते हैं।

दिवाली की कहानी | Ramayana Story in Hindi

रामायण के अनुसार दीपावली के दिन भगवान राम अपनी पत्नी सीता और भाई लक्ष्मण के साथ अयोध्या वापस आए थे। 14 वर्षों का वनवास खत्म करके व रावण का वध करने के बाद श्रीराम जी वापस अपने घर लौटे थे। इसलिए उनके आने की खुशी में अयोध्या वासियों ने अपने घर को सुंदर दीयों से सजाकर पहली बार दीपावली मनाई थी।

ज्यादातर लोग इसी कारण दीपावली मनाते है क्योंकि उन्हें दीपावली मनाने के पीछे केवल यही कहानी पता होती है। लेकिन दीपावली मनाने के पीछे केवल यही एक कारण नहीं है बल्कि दीपावली का त्यौहार मनाने के पीछे एक बहुत ही पारंपरिक कहानी भी है और यह कहानी भगवान विष्णु से संबंधित है।

Krishna and Narakasura Diwali Story in Hindi

द्वापर युग में जब भगवान विष्णु ने कृष्ण अवतार में जन्म लिया था तब एक नरकासुर नामक राक्षस था उसने सभी लोगों को परेशान करके 1600 लड़कियों को बंदी बना लिया था। नरकासुर के दुस्साहस से क्रोधित होकर श्री कृष्ण ने नरकासुर का वध कर दिया और सभी लड़कियों को रिहा कर दिया। नरकासुर का वध और कृष्ण की विजय बुराई पर अच्छाई की जीत दर्शाती है। इतने भयानक राक्षस के वध और नारी की सुरक्षा के कारण लोगों ने खुशी से उस समय दीपावली का त्यौहार मनाया था।

यह सभी तो लोक कथाएं है लेकिन भारत में ज्यादातर लोग दीपावली का त्यौहार लक्ष्मी माता को खुश करने के लिए मनाते हैं। हमारे हिंदू धर्म में ऐसी मान्यता है कि मां लक्ष्मी धन की देवी है और वही धन और समृद्धि की दाता भी हैं। इसलिए लोग अपने घर में धन और समृद्धि प्राप्त करने के लिए दीपावली के अवसर पर मां लक्ष्मी की पूजा करते हैं। मां लक्ष्मी जी की पूजा भगवान गणेश के साथ की जाती है क्योंकि गणेश जी सुख समृद्धि के दाता हैं। इन दोनों की एक साथ पूजा करने से घर में धन और सुख का कभी अभाव नहीं होता है।

कई महान पंडितों का यह भी कहना है कि दीपावली के दिन लक्ष्मी जी का विवाह भगवान विष्णु के साथ हुआ था। इसीलिए भी दीपावली का त्यौहार मनाया जाता है।

भारत के अलग-अलग राज्यों में अलग-अलग मान्यता है और सभी लोग अपनी मान्यता के कारण दीपावली का उत्सव मनाते हैं लेकिन दीपावली के समय ज्यादातर सभी के घरों में गणेश लक्ष्मी जी की पूजा की जाती है और दीपावली के दूसरे दिन मां काली की पूजा होती है। इसीलिए दीपावली और काली पूजा एक साथ की जाती है।

निष्कर्ष

हर्षोल्लास से मनाया जाने वाला त्यौहार दीपावली लोगों के हृदय में अपना विशेष स्थान रखता है। अधिकांश लोग इस त्यौहार को मात्र एक त्यौहार के रूप में ही मनाते है लेकिन जो लोग इस त्यौहार का महत्व समझते है वह अपने हृदय के नकारात्मक विचारों को निकालकर सकारात्मक विचारों को अपनाते हैं। कई सारे लोग ऐसे भी होते हैं जो दीपावली के अवसर पर अपना नया साल शुरू करते हैं।


Diwali Par Nibandh in Hindi 10 Lines – 3

प्रस्तावना

दीपावली का नाम सुनते ही लोग स्वादिष्ट मिठाइयां पकवान और पटाखे जलाने के बारे में सोचने लगते हैं लेकिन दीपावली में केवल यही सारी चीजें नहीं होती बल्कि उसके अलावा भी बहुत सी ऐसी चीजें होती है जिनके बारे में हम भूल चुके हैं। दीपावली का अवसर इतना पवित्र क्यों होता है वह आप इस निबंध में जानेंगे!

दीपावली का आध्यात्मिक महत्व क्या है

दीपावली एक ऐसा त्यौहार है जो ना सिर्फ लोगों को खुशियां देती है बल्कि लोगों को जीवन के महत्वपूर्ण मूल्यों को भी समझाती हैं। दीपावली के अवसर पर लोग अपने दुश्मनों को भी माफ कर देते हैं और एक साथ मिलकर भाईचारे के साथ इस त्योहार को मनाते हैं।

दीपावली लोगों के बीच के मतभेद को खत्म करके एक दूसरे को करीब लाता है। दीपावली के अवसर पर लोग अपने मन के नफरत को खत्म करके दूसरों की तरह मित्रता का हाथ बढ़ाते हैं। दीपावली का त्यौहार लोगों को शांति से और एक साथ मिलकर रहने का संदेश देता है। दीपावली का एकमात्र उद्देश्य खुशियां और खुशियां बांटना ही हैं। नफरत भेदभाव और दुश्मनी को भुलाकर दीपावली के अवसर पर लोग एक दूसरे को मिठाइयां देते हैं।

इतना ही नहीं जिन लोगों के घरों में भारी मुसीबत छाई रहती है मतलब जिनके घरों में धन का अभाव रहता है या फिर लोग बीमार रहते हैं ऐसे लोगों के घरों में दीपावली खुशियों का संदेश देता है। यह पर्व समझाता है कि हर बुरे वक्त के बाद एक अच्छा वक्त जरूर आता है। अंधेरा कितना ही गहरा और काला क्यों ना हो प्रकाश के सामने मिट ही जाता है ऐसे ही कोई भी मुसीबत लंबे समय तक नहीं रहती मुसीबत चाहे कितनी भी बड़ी क्यों ना हो एक न एक दिन खत्म हो जाती हैं।

निष्कर्ष

दीपावली भारत के महान और पवित्र त्योहारों में से एक है और यह लोगों को खुशी के साथ रहने का संदेश देता है। इस त्यौहार की गरिमा इतनी ज्यादा है कि जिसकी कल्पना कोई भी नहीं कर सकता। दीपावली के अवसर पर लोग साथ मिलकर केवल एक दूसरे को खुशियां ही बाटते हैं।

मैं उम्मीद करता हूँ कि आपको Deepavali Par Nibandh पढ़ कर अच्छा लगा होगा। Diwali Nibandh in Hindi के विषय में अगर आपको कुछ कहना है तो आप कमेंट बॉक्स में अपने विचार व्यक्त कर सकते हैं। लेख पसंद आया हो तो इसे अन्य लोगों के साथ साझा करें और Diwali Essay in Hindi जैसी और जानकारी प्राप्त करने के लिए 10Lines.co पर दोबारा आयें। धन्यवाद!

About the author

Himanshu Grewal

10Lines.co एक हिंदी ब्लॉग है, यहां आपको 10 Lines से संबंधित जानकारी मिलेगी। इसके अलावा निबंध (Essay), भाषण (Speech), कविता (Poem) भी पढ़ने को मिलेगा।

Leave a Comment