Advertisement
Advertisement

भारत के गणतंत्र दिवस पर भाषण की तैयारी करें कुछ इस प्रकार

Advertisement

नमस्ते, 10Lines.co में आज हम 26 जनवरी पर भाषण अर्थात “in English, Republic Day Speech Hindi” के विषय के ऊपर अत्यंत महत्वपूर्ण चर्चा करने जा रहे हैं। तो लेख को अंत तक ध्यानपूर्वक पूरा पढ़ें और अपने विद्यालय में मंच पर बोलने के लिए Republic Day Speech in Hindi, Gantantra Diwas Par Nibandh, 26 January Speech in Hindi 2022 यहाँ से डाउनलोड करें।

Republic Day Speech Hindi 2022

हमारे देश में गणतंत्र दिवस, स्वतंत्रता दिवस जैसे राष्ट्रीय अवकाश को बहुत ही धूमधाम से मनाया जाता है, 26 जनवरी 1950 के दिन हमारे देश का संविधान लागू हुआ था इसीलिए इस दिन बड़े धूमधाम से गणतंत्र दिवस मनाया जाता है।

स्कूल कॉलेज जैसी जगहों पर गणतंत्र दिवस के अवसर पर बड़ा समारोह आयोजित किया जाता है। जहां सभी बच्चे इसमें भाग लेते हैं और शिक्षक भी बच्चों द्वारा प्रस्तुत किए जाने वाली प्रस्तुति को बहुत ही उत्साह के साथ देखते हैं लेकिन इस प्रस्तुति की शुरुआत गणतंत्र दिवस 2022 के भाषण से शुरू होती हैं। जो बहुत से बच्चों के लिए लिखना थोड़ा मुश्किल हो जाता है इसीलिए हम आपके लिए गणतंत्र दिवस 2022 पर भाषण लिख रहे है बच्चों को इस लेख से बहुत मदद मिल जाएगी।

Advertisement

Republic Day Speech in Hindi 2022

26 जनवरी के दिन जब हमारे देश का संविधान लागू हुआ था तब हमारे देश को एक गणतंत्र राष्ट्र घोषित किया गया था। इस दिन से पूर्व हमारे देश में स्वतंत्रता थी लेकिन गणतंत्र नहीं था। लेकिन इस दिन से हमारा देश एक गणतांत्रिक देश बन गया था यही कारण है कि इस दिन का उत्सव मनाने के लिए हर साल गणतंत्र दिवस मनाया जाता है।

26 जनवरी के दिन जब हमारे देश का गणतंत्र लागू हुआ था और हमारे देश का संविधान सभी के सामने लागू हुआ था तब हमारे देश में लोकतांत्रिक प्रणाली शुरू हुई थी।

गणतंत्र दिवस के शुभ अवसर पर देश में राष्ट्रीय अवकाश घोषित किया जाता है और सभी लोग इस दिन अपने घर पर रहकर अपने परिवारजनों के साथ इस दिन का उत्सव मनाते है। छोटे-छोटे बच्चे जो विद्यालयों में पढ़ते हैं और कॉलेज मे अच्छी शिक्षा प्राप्त कर रहे हैं वह अपने विद्यालय व कॉलेज जाते है और गणतंत्र दिवस के समारोह में सम्मिलित होते हैं।

गणतंत्र दिवस मनाने की शुरुआत सबसे पहले हमारे देश की राजधानी दिल्ली से होती है। दिल्ली में सर्वप्रथम देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ध्वजारोहण करते हैं और फिर परेड की शुरुआत की जाती है। इस परेड में भारतीय सेना के नौ-जवान शामिल रहते है साथ ही साथ इस परेड में बहुत ही सुंदर झांकी प्रस्तुत की जाती हैं। यह परेड भारत की शान मानी जाती है। इस परेड को देखने के लिए दूसरे देशों से भी लोगों को आमंत्रित किया जाता है। हर साल एक ना एक देश के व्यक्ति को चीफ गेस्ट के तौर पर हमारे देश में बुलाया जाता है।

विद्यालयों में जब गणतंत्र दिवस मनाया जाता है तब उस समय सभी शिक्षक, बच्चों की उपस्थिति में विद्यालय के हेड मास्टर झंडा फहराते है और झंडा फहराने के बाद सभी एक साथ राष्ट्रगान (जन गण मन) गाते हैं।

वीर स्वतंत्रता सेनानियों को याद करते हुए तिरंगा फहराने के बाद समारोह को शुरू किया जाता है। छोटे-छोटे बच्चे देश भक्ति से संबंधित कविताएं बोलते है और जो बड़े बच्चे होते है वह देश भक्ति के गीत गाते हैं। वह बच्चे जो नृत्य में माहिर होते है वह पूरे विद्यालय के सामने सांस्कृतिक नृत्य प्रस्तुत करते है जो देखने में बहुत ही ज्यादा अच्छा होता है। दूसरे स्कूलों की तरह आज हमारे स्कूल में भी गणतंत्र दिवस के अवसर पर हम स्वतंत्रता सेनानियों को याद करते हुए समारोह आयोजित किया गया है और इसी भाषण के साथ में इस समारोह का शुभारंभ करता हूं।

धन्यवाद


गणतंत्र दिवस पर भाषण 2022

सभी अध्यापक गण और मेरे सभी अभिभावकों को मेरा प्रणाम..!

भारत में हर साल 26 जनवरी के दिन गणतंत्र दिवस मनाया जाता है। 200 साल की गुलामी करने के बाद सन् 1950 में हमारे देश का गणतंत्र लागू हुआ था साथ ही साथ इस दिन हमारे देश का संविधान भी लागू हुआ था जिसका पालन आज हम सभी करते हैं।

26 जनवरी 1949 में भारत की संविधान सभा ने भारत के संविधान को अपनाया था और इस संविधान को 26 जनवरी 1950 के दिन पूरे भारतवर्ष में लागू किया गया। डॉक्टर भीमराव रामजी आंबेडकर जी ने हमारे देश में संविधान की रचना की और इस संविधान की रचना करने के लिए उन्होंने कई अलग-अलग जगहों पर भ्रमण किया और इससे पता लगाया कि किस देश में कौन सा संविधान चलता है और उन्हें उन सभी संविधानों में जो बात अच्छी लगी उन्होंने हमारे देश के संविधान बनाते समय उन बातों को हमारे देश के संविधान में डाल दिया। इस तरह अगर हम अपने संविधान को देखें तो हमारे संविधान में दूसरे देशों के संविधानों के भी गुण देखने को मिलते हैं।

चूंकि 26 जनवरी के दिन ही हमारे देश का संविधान सबके सामने प्रस्तुत किया गया था और उसी दिन यह लागू भी हुआ था इसलिए इस दिन का सम्मान करने के लिए शैक्षणिक संस्थान सांस्कृतिक कार्यक्रम, निबंध-लेखन, नाटक या भाषण आयोजित करते हैं।

  • गणतंत्र दिवस के शुभ अवसर पर अलग-अलग जगहों पर अलग-अलग तरह से चीजों को आयोजित किया जाता है और जो बच्चे जिस कला में माहिर होते हैं वह उस कला में भाग लेते हैं।
  • गणतंत्र दिवस और स्वतंत्रता दिवस दोनों ऐसे दिन है जहां सभी बच्चे एक साथ मिलकर अपने दिलों में देशभक्ति का भाव लाते है। बच्चे ही नहीं बड़े लोग भी इस दिन जागरूकता के साथ हमारे देश के वीर जवानों को याद करते हैं और उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित करते हैं।
  • गणतंत्र दिवस भी ऐसे दिनों में से एक है जो लोगों के मन में यह भाव पैदा करता है कि मैं भी अपने देश के लिए कोई भी कुर्बानी दे सकता हूं और अगर मुझे अपने देश के लिए अपने प्राण गंवाने पड़े तो भी मैं हंसते-हंसते अपने प्राण गवा दूंगा!
  • गणतंत्र दिवस के शुभ अवसर पर बच्चों को हमारे देश के नौजवानों की कहानी सुनाई जाती है किस तरह उन्होंने हमारे देश को स्वतंत्रता दिलवाई और हमारे देश को स्वतंत्र होने के बाद भी कौन-कौन से मुसीबतों का सामना करना पड़ा!

आज हमारे पास अपनी बातों को कहने के लिए अपने मत देने के लिए और अपने विचारों को बिना डरे प्रस्तुत करने का जो अधिकार है वह हमें हमारे गणतंत्र से ही प्राप्त हुआ है। यही कारण है कि हमें हमारे देश के गणतंत्र का सम्मान करना चाहिए। अगर गणतंत्र ना होता तो हमारे पास किसी भी तरह की आजादी नहीं होती। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि 26 जनवरी के बाद ही हमारा देश गणतांत्रिक देशों में सम्मिलित हो गया था।

धन्यवाद


26 January Speech in Hindi 2022

आदरणीय प्रधानाचार्य जी, सभी अध्यापकगण और मेरे प्यारे मित्रों आप सभी को मेरा सादर प्रणाम🙏

जैसा कि आप सभी जानते है गणतंत्र दिवस के शुभ अवसर पर आज हम यहां पर हमारे देश के 73वें गणतंत्र दिवस को मनाने के लिए सम्मिलित हुए हैं। हर साल हमारे देश में 26 जनवरी के दिन बड़े ही धूमधाम से गणतंत्र दिवस मनाया जाता है। हर साल इस दिन को मनाया जाने के पीछे एक बड़ा कारण यह है कि इस दिन जो घटना घटी थी उसे हम हर साल बड़े ही उत्साह से याद करते हैं। क्योंकि यह घटना केवल इतिहास के पन्नों पर छपी जाने के लिए नहीं घटी थी बल्कि यह घटना लोगों के दिलों में हमेशा हमेशा के लिए याद रहे इसलिए घटी थी और इसीलिए पूरे भारतवर्ष में 26 जनवरी के दिन गणतंत्र दिवस को इतने उत्साह से मनाया जाता है।

गणतंत्र दिवस भारत में राष्ट्रीय पर्व के रूप में मनाया जाता है इस दिन सभी लोग चाहे वह हिंदू, मुस्लिम, सिख हो या ईसाई सभी एक साथ मिलकर इस राष्ट्रीय पर्व को मनाते हैं। जैसा कि हम सभी जानते हैं कि हमारा देश 15 अगस्त 1947 के दिन आजाद हो गया था लेकिन उसके बाद भी कई वर्षों तक हमारे देश में अंग्रेजों द्वारा स्थापित की गई कानून ही चलता था जिससे हमारे देश को काफी क्षति हो रही थी इसीलिए हमारे देश में भारतीय संविधान सभा का निर्माण किया गया जिनका नेतृत्व डॉक्टर अंबेडकर कर रहे थे और उन्होंने ही हमारे संविधान की रचना की उन्होंने इस संविधान में हर एक कानून का उल्लेख बहुत ही बेहतर ढंग से किया। यही कारण है कि डॉक्टर अंबेडकर को संविधान के रचयिता के नाम से भी पुकारा जाता है।

26 जनवरी 1950 के शुभ अवसर पर हमारे देश में हमारे देश का कानून लागू हुआ था। भारतीय पेनल कोड का सम्मान केवल भारत के लोग ही नहीं बल्कि दूसरे देशों के लोग भी करते हैं क्योंकि हमारे देश की कानून व्यवस्था बहुत ही अच्छी है। इसी वजह से सविंधन स्थापन के 73 साल होने के बाद भी सभी लोग इसी संविधान का पालन करते है और आज भी वह लोग जो कानून या फिर लॉ की पढ़ाई करते है उन्हें संविधान के कोड्स को ध्यान में रखना होता है।

तो चलिए इस महान दिन दिन के लिए आयोजित किए गए समारोह का शुभारंभ करते हैं और इस दिन को बेहद जोश एवं उत्साह के साथ मनाते हैं।

धन्यवाद


निष्कर्ष

तो साथियों आज हमने इस लेख में 26 जनवरी 2022 पर भाषण (Republic Day Speech Hindi) का अध्ययन किया, हमें आशा है इस लेख में दिए गए भाषण आपके लिए उपयोगी साबित होंगे और आप इस जानकारी को अपने साथी छात्रों के बीच अवश्य सांझा करेंगे।

– Speech on Republic Day in Hindi 2022

Recent Articles

Related Stories

Leave A Reply

Please enter your comment!
Please enter your name here